साहब मैं थाने नहीं आउंगा,
अपने इस घर से कहीं नहीं जाउंगा,
माना पत्नी से थोडा मन मुटाव था,
सोच में अन्तर और विचारों में खिंचाव था,
पर यकीन मानिए साहब ,“ मैंने दहेज़ नहीं माँगा ”
Continue reading

बात बहुत पुरानी है। आठ-दस साल पहले की। मैं अपने एक मित्र का पासपोर्ट बनवाने के लिए दिल्ली के पासपोर्ट ऑफिस गया था। उन दिनों इंटरनेट पर फार्म भरने की सुविधा नहीं थी। पासपोर्ट दफ्तर में दलालों का बोलबाला था और खुलेआम दलाल पैसे लेकर पासपोर्ट के फार्म बेचने से लेकर उसे भरवाने, जमा करवाने और पासपोर्ट बनवाने का काम करते थे।

Continue reading
  • page 1 of 1
Author's picture

Yogendra Rampuria

Software Engineer
OpenSource Advocate
Employed in Financial Industry since 2004


Solution Architect & Senior Developer
Retail Banking


Singapore